आर माधवन ने कोविड के बारे में बात करते हुए कहा, "ऐसा लगता है कि हमारे जीवन पर?

 
आर माधवन जिनके फुटबॉल प्रशिक्षण  को गुरुवार को बड़े उत्साह के साथ फिल्म प्रेमियों द्वारा प्राप्त किया गया था, कोविद 19 के साथ नीचे आ गया है।] अब उनकी मां ने भी कोविद का सकारात्मक परीक्षण किया है। आघात पर बोलते हुए माधवन कहते हैं, “अब तक मैं ठीक महसूस कर रहा हूँ। लेकिन मेरी मां ने कोविद को अनुबंधित भी किया है। हम घर के अलग-अलग कमरों में बंद हैं। मेरी माँ का पता लगने के बाद हमने अपने पिता को एक होटल और सुरक्षा के लिए पैक कर दिया जब तक कि मेरी माँ और मैं बहुत अलग हो गए।


भाग्य से मैडी, उनकी पत्नी और बेटा शहर में नहीं हैं। “वे कोविद की इस नई लहर के सामने आने से पहले से ही दुबई में हैं। इसलिए वे प्रारंभिक सुरक्षित हैं। मुझे पता नहीं है कि अगर मुझे मुंबई में कोविद से अपने बेटे की रक्षा करनी होती है तो मैं क्या करता हूं। वास्तव में इस वायरस से अपने लोगों को रखने का कोई तरीका नहीं लगता है। ऐसा लगता है कि इसने हमारी जान ले ली है। ”आर.माधवन उर्फ़ माधवन एक भारतीय फिल्म अभिनेता,लेखक,निर्माता और टीवी प्रस्तोता हैं।

वह दो बार हिंदी सिनेमा में फिल्मफेयर पुरुस्कार जीत चुके हैं। साथ ही उन्हें तमिलनाडु स्टेट अवार्ड्स से भी नवाजा जा चुका है।  माधवन शुरुआत से ही पढ़ाई में बेहद अव्वल थे। उन्हें साल 1988 में अपने स्कूल को बतौर कल्चरल एम्बैसडर के तौर पर कनाडा में रिप्रेजेंट करने का अवसर मिला था। इतना ही नहीं वह अपने कॉलेज के दिनों के दौरान काफी अच्छे कैडेट भी रह चुके हैं, उन्हें महाराष्ट्र बेस्ट कैडेट से नवाजा भी जा चुका है। माधवन कभी भी एक अभिनेता बनने की ख्वाइश नहीं रखते थे, वह एक आर्मी ऑफिसर बनना चाहते थे, वह एक बेस्ट कैडेट भी रह चुके हैं लेकिन जब आर्मी ज्वाइन करने का मौका आया तो उनकी उम्र छ महीने काम निकली उसके बाद उन्होंने अपना रुख पब्लिक स्पीकिंग की और कर दिया।  

वर्ष 1997 में माधवन ने अपने करियर की शुरुआत एक चन्दन के टीवी कमर्शियल ऐड से की थी। उसके बाद निर्देशक मणि रत्नम ने उन्हें अपनी एक फिल्म का ऑफर देकर स्क्रीन टेस्ट के लिये कहा, लेकिन बाद में उन्हें फिल्म से यह कहकर निकल दिया की वो उस रोल के लिए फिट नहीं बैठते। फिर माधवन ने छोटे पर्दे का सहारा लिया कई टेली शोज़ में काम किया। लोगों को उनका काम बेहद पसंद आया और 1998 में माधवन एक इंग्लिश फिल्म इन्फर्नो में इंडियन पुलिस ऑफिसर की भूमिका में नजर आये। लेकिन उन्हें कोई खास प्रसिद्ध नहीं मिली, ना ही वह दर्शकों की ही नजर में आये। उसके बाद माधवन ने कई साउथ की फिल्मों में काम किया। जिसके लिए उन्हें साउथ फिल्म फेयर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया।  

From around the web