2019 के लिए दादासाहेब फाल्के पुरस्कार इस अभिनेता को दिया जायेगा यह...

 

सुपरस्टार रजनीकांत को 2019 के लिए दादा साहेब फाल्के पुरस्कार मिलेगा। यह पुरस्कार देश का सर्वोच्च फिल्म सम्मान है। इस खबर की घोषणा आज से पहले केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने की थी।“भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे महान अभिनेताओं में से एक, 2019 के लिए दादासाहेब फाल्के पुरस्कार की घोषणा से खुश। एक अभिनेता, निर्माता और पटकथा लेखक के रूप में उनका योगदान प्रतिष्ठित रहा है, ”श्री जावड़ेकर ने ट्वीट किया।राष्ट्रीय फिल्म प्रतिष्ठितों की तरह ही, दादासाहेब फाल्के प्रतिष्ठितों को भी COVID-19 महामारी के कारण एक वर्ष के लिए विज्ञापन कर दिया गया। पुरस्कार के लिए रजनीकांत को चुनने वाली पूरी में गायक आशा भोसले और शंकर महादेवन, अभिनेता मोहनलाल और बिस्वजीत और फिल्म निर्माता सुभाष घई शामिल थे।

पीएम नरेंद्र मोदी ने रजनीकांत को सम्मान के लिए बधाई देने के लिए अपने ट्विटर हैंडल पर ले लिया। "पूरी पीढ़ी में लोकप्रिय, काम की एक संस्था कुछ अलग, विविध भूमिकाएं और एक स्थायी व्यक्तित्व कर सकती है ... जो आपके लिए श्री @rajinikanth जी है। यह बहुत खुशी की बात है कि थलाइवा को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। बधाई हो, “उन्होंने उन्हें लिखा।1975 में रजनीकांत तमिल फिल्म में अद्वितीय रागंगल अभिनय के साथ । उनकी पिछली कुछ छावनियों मेंपिछले वर्ष काला, 2.0, पेट और दरबार शामिल हैं । सुपरस्टार को अगली बार अन्नथेमें देखा जाएगा । शिवाजी राव गायकवाड़ विशेषत रजनीकांत के नाम से जाने जाते है,

वे एक भारतीय फ़िल्म कलाकार है जो मुख्य रूप से तमिल सिनेमा में काम करते है। एक्टर बनने से पहले वे बैंगलोर ट्रांसपोर्ट सर्वीस में बस कंडक्टर के पद पर कार्यरत थे। 1973 में एक्टिंग में डिप्लोमा लेने के लिए उन्होंने मद्रास फ़िल्म इंस्टिट्यूट में एडमिशन लिया। 1975 की तमिल ड्रामा फ़िल्म अपूर्वा रागंगाल से उन्होंने डेब्यू किया था, तमिल फ़िल्म में उन्होंने कई मनमोहन किरदार किये है, जिन्हें आज भी लोग याद करते है।  उन्होंने कई कमर्शियल रूप से सफल फिल्मो में बतौर मुख्य कलाकार काम किया है।

तभी से लोग उन्हें “सुपरस्टार” कहने लगे और वे तमिलनाडु के सबसे प्रसिद्ध शख्सियत बन गए। फिल्मो में डायलॉग बोलने का उनका अपना ही एक अलग अंदाज़ है, देश ही नही बल्कि विदेशो में भी लोग उनकी आवाज़ और उनके स्टाइल के दीवाने हैरजनीकांत का फिल्मी सफ़र भी किसी फिल्म से कम नहीं| उन्होंने परदे पर पहले नकारात्मक चरित्र और विलेन के किरदार से शुरुआत की, फिर साइड रोल किये और आखिरकार एक हीरो के तौर पर अपनी पहचान बनाई|

 

From around the web