Manoranjan Nama

स्विट्जरलैंड-मालदीव छोड़ Vicky और Katrina ने शादी के लिए क्यों चुना राजस्थान का 700 साल पुराना किला ? वीडियो में जाने असली वजह 

 
स्विट्जरलैंड-मालदीव छोड़ Vicky और Katrina ने शादी के लिए क्यों चुना राजस्थान का 700 साल पुराना किला ? वीडियो में जाने असली वजह 

राजस्थान अपने खूबसूरत किलों और महलों के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। कला और संस्कृति, राजसी वैभव और राजपूताना स्थापत्य कला के इस अनूठे संगम का लुत्फ उठाने के लिए दुनिया के कोने-कोने से पर्यटक यहां आते हैं। राजस्थान के विश्व प्रसिद्ध किलों में से एक बरवाड़ा किला राजपूत स्थापत्य कला का बेजोड़ उदाहरण है।इस किले को चौथ का बरवाड़ा किला भी कहा जाता है। यह किला सवाई माधोपुर से करीब 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जो बरवाड़ा राजघराने के राजा मानसिंह के परिवार से संबंधित है। मौजूदा राजघराने के सदस्य पृथ्वीराज सिंह ने अपने पूर्वजों की इस निशानी को बेहद खूबसूरती से संजोने का काम किया है। उन्होंने दूर-दूर तक फैले इस किले के एक हिस्से का पुनर्निर्माण कराकर इसे अंतरराष्ट्रीय होटल समूह सिक्स सेंसेज को लीज पर दे दिया है। इसी वजह से इसे सिक्स सेंसेज बरवाड़ा किला के नाम से जाना जाता है।

यह किला करीब 700 साल पुराना है और इसका निर्माण 14वीं सदी में चौहान राजाओं ने कराया था। यह रणथंभौर राज्य राजवंश और बूंदी राज्य राजवंश का भी हिस्सा रहा है। बाद में यह किला राजावत राज्य राजवंश के राजा मानसिंह के पास चला गया। इस किले की भव्यता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 5.5 एकड़ में फैला यह किला 5 फीट मोटी चट्टान की दीवार से घिरा हुआ है, जो कुछ हिस्सों में 20 फीट तक ऊंची है। राजपुताना शैली में बने इस किले की खिड़कियों से आप झील और अद्भुत नजारों का लुत्फ उठा सकते हैं। ऐतिहासिक रूप से, फोर्ट बरवाड़ा का इस्तेमाल युद्ध के समय सैनिकों, हथियारों और गोला-बारूद को रखने के लिए किया जाता था। इस किले की मुख्य इमारत में चौथ भवानी मंदिर है, जो 1100 फीट की ऊंचाई पर पहाड़ पर बना है। इस मंदिर का निर्माण महाराजा भीम सिंह चौहान ने साल 1451 में करवाया था। इसी मंदिर के नाम पर गांव का नाम चौथ पड़ा है। और इसी मंदिर के नाम पर इसके गांव को चौथ का बरवाड़ा भी कहा जाता है।

.

शहर में प्राचीन चौथ माता मंदिर के दर्शन के लिए भी श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। चौथ माता मंदिर की गिनती सवाई माधोपुर के सबसे खास और प्राचीन मंदिरों में होती है। इस मंदिर की स्थापना 1451 में शासक भीम सिंह ने की थी। एक हजार फीट ऊंची पहाड़ी पर स्थित इस मंदिर तक पहुंचने के लिए 700 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं। यहां हर साल करवा चौथ के मौके पर चौथ माता का मेला लगता है। मान्यता है कि जो भक्त पूरे मन और श्रद्धा से चौथ माता की पूजा करते हैं उनका वैवाहिक जीवन हमेशा खुशियों से भरा रहता है।

.

साल 2021 में यहां हुई बॉलीवुड स्टार कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की डेस्टिनेशन वेडिंग ने बड़वाड़ा किले को दुनियाभर में मशहूर कर दिया। किले में हुई इस शाही शादी में शाही रीति-रिवाजों की झलक भी देखने को मिली। राजस्थानी अंदाज में हुई इस शादी के लिए खास इंतजाम किए गए थे, जिसे देखकर दुनिया में हर कोई हैरान रह गया। भारतीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने इस स्टार कपल की शादी को तीन दिनों तक कवर किया और इस किले के होटल बनने की खबर दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाई।बड़वाड़ा किले को होटल का शाही लुक देने के लिए करीब 80 करोड़ रुपये खर्च किए गए। इस होटल में वर्ल्ड क्लास होटल की सभी सुविधाएं जुटाई गई हैं। यहां आपको खाने-पीने के साथ-साथ बार, लाउंज, स्पा, फिटनेस सेंटर, स्विमिंग पूल, बैंक्वेट स्पेस और किड्स क्लब आदि सब कुछ मिलेगा। इतना ही नहीं, यहां ठहरने वाले लोगों को इस शाही किले का खूबसूरत नजारा भी देखने को मिलेगा। पूरे होटल को शेखावाटी कला से सजाया और संवारा गया है।

.

यहां आपको कई जगह दीवारों और छतों पर पुरानी कलाकृतियां देखने को मिलेंगी। इस होटल से रणथंभौर नेशनल टाइगर रिजर्व सिर्फ 30 मिनट की दूरी पर है। होटल की ओर से आगंतुकों को सफारी भी करवाई जाती है। इस होटल में करीब 100 कमरे हैं और इस होटल में एक रात ठहरने का न्यूनतम खर्च करीब 1 लाख रुपये हो सकता है। सिक्स सेंस बरवाड़ा फोर्ट में 48 रॉयल सुइट हैं, जो आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं। कुछ कमरों से ग्रामीण इलाकों का नजारा दिखता है, जबकि कुछ से अरावली रेंज का अद्भुत नजारा दिखता है। इनमें सबसे खूबसूरत है रानी राजकुमारी सुइट, जहां से झील, चौथ का बरवाड़ा मंदिर और अरावली रेंज के नजारे आपका दिल जीत लेंगे। यहां एक रात रुकने की बुकिंग करीब 77,000 रुपये है और अगर इसमें टैक्स जोड़ दिया जाए तो यह खर्च करीब 90,000 रुपये आ सकता है। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि यह खर्च सिर्फ एक सामान्य कमरे का है। अगर रॉयल सुइट्स की बात करें तो वहां एक रात रुकने का खर्च करीब 4 लाख 94 हजार रुपये है। इसमें टैक्स जोड़ने के बाद आपको यहां रुकने के लिए करीब 5 लाख 8 हजार रुपये खर्च करने पड़ सकते हैं।

Post a Comment

From around the web