फहद फासिल ने आखिरकार अपने?

 
अविश्वसनीय रूप से उपहार में दिया गया फहद फासिल का मार्च की शुरुआत में एक दुर्घटना हुई थी, जिससे वह अभी भी उबर रहा है। हां, यह गंभीर था। हम सुन रहे हैं और पढ़ रहे हैं कि दुर्घटना कैसे हुई और यह कितना गंभीर था, इस पर कई अटकलें हैं।


मुझे आखिरकार घोड़े के मुंह से सच्चाई मिल गई। फहद कहते हैं, “हां, कुछ हफ़्ते पहले मेरा एक हादसा हुआ था। मैं अभी भी ठीक हूँ। इस सप्ताह टांके बंद होने चाहिए।जब मैंने उनसे अधिक जानकारी साझा करने के लिए कहा, तो महान मलयाली अभिनेता ने जवाब दिया, "मैं मलयाकुंज कीशूटिंग के दौरान गिर गया  । यह एक भूस्खलन अनुक्रम था। यंत्रीकृत। हमने गति पर नियंत्रण खो दिया। मुझे केवल एहसास हुआ कि जब मेरे डॉक्टर टूट गए तो यह कितना गंभीर था। मुझे लगभग एक सप्ताह में वापस सामान्य होना चाहिए। इसे टाला जा सकता था। लेकिन मुझे लगता है कि मुझे इस ट्रैक से हटने और वापस आने की जरूरत थी। ”

फहद कहते हैं कि उन्हें पुनर्जीवित करना प्रकृति का तरीका है। “यह अक्सर मेरे साथ होता है। मैं बहुत लंबे समय तक एक जगह पर नहीं रहा। यह शारीरिक से अधिक मनोवैज्ञानिक है। लेकिन शारीरिक रूप से यह एक बार में होता है। ” फहद पर बात शुरू करने से पहले मलयालम सिनेमा के एक और सुपरस्टार की बात करनी होगी. मोहनलाल. मलयालम सिनेमा के इतिहास में इनके नाम पर एक अलग से चैप्टर लिखा जाएगा. कुछ ऐसा कॉन्ट्रिब्यूशन है इनका. 1980 में डेब्यू किया और

अब तक इंडस्ट्री पर राज़ कर रहे हैं. अभी हाल ही में आई ‘दृश्यम-2’ की वजह से तो आज की तारीख में इनका हिंदी बेल्ट में भी भौकाल बना हुआ है. मोहनलाल ने जिस फिल्म से डेब्यू किया, उसका नाम था ‘मंजिल विरिंजा पूकल’. फिल्म के डायरेक्टर थे फ़ाज़िल. अब तक 30 से ज़्यादा फिल्में बना चुके हैं. मोहनलाल, कुंचको बोबन और नगमा जैसे एक्टर्स को इंडस्ट्री में इन्ट्रोड्यूस कर चुके हैं. ठीक ऐसे ही 2002 में एक और एक्टर को इन्ट्रोड्यूस किया. अपने बेटे यानि फहद फ़ाज़िल को. फिल्म थी ‘कैयेतम दूरत’. एक रोमांटिक कॉमेडी. जहां सुपरस्टार ममूटी ने भी कैमिओ किया. लेकिन फिल्म कुछ कमाल नहीं कर पाई. कमर्शियल और क्रिटिकल फेलियर साबित हुई.

From around the web