केवी आनंद (1966-2021): 'भारतीय सिनेमा ने एक और रत्न दिया खो

 
केवी आनंद (1966-2021): 'भारतीय सिनेमा ने एक और रत्न दिया खो

तमिल निर्देशक-छायाकार केवी आनंद का शुक्रवार को चेन्नई में कोविद -19 संबंधित जटिलताओं के कारण निधन हो गया । वह 54 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार चेन्नई के बेसेंट नगर श्मशान में हुआ।आनंद ने अपना करियर एक फ्रीलांस फोटो जर्नलिस्ट के रूप में शुरू किया, इससे पहले कि उन्होंने पुरस्कार विजेता छायाकार पीसी श्रीराम की सहायता करना शुरू किया। उन्होंने 90 के दशक की शुरुआत में कमल हासन की देवर मगन और मणिरत्नम की थिरुदा थिरुडा जैसी तमिल फिल्मों में श्रीराम के साथ काम किया ।

यह कहा जाता है कि उस समय श्रीराम बहुत व्यस्त थे जब निर्देशक प्रियदर्शन ने उनसे अपने नए प्रोजेक्ट के लिए संपर्क किया था। इसलिए श्रीराम ने 1996 की फ़िल्म तबन्मीन कोम्बाथ के लिए आनंद के नाम की सिफारिश प्रियदर्शन से की। और बाकी जैसाकि लोग कहते हैं, इतिहास है।आनंद ने उस फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ छायांकन का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता, जिसमें मोहनलाल और शोभना मुख्य भूमिकाओं में थे। उन्होंने कई भारतीय भाषाओं में कुछ उल्लेखनीय फिल्मों की शूटिंग की,

जिनमें मिन्नाराम, पुण्यभूमि न देशम और कधल देशम शामिल हैं। जब उन्होंने पहली बार ब्लॉकबस्टर राजनीतिक नाटक मुधलवन (1999) में सहयोग किया, तब वे निर्देशक शंकर के कैमरामैन थे। बाद में, आनंद ने शंकर के बॉयज़ (2003) और शिवाजी (2007) की भी शूटिंग की। उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों जोश (2000), नायक: द रियल हीरो (मुधलवन की हिंदी रीमेक), द लीजेंड ऑफ भगत सिंह (2002) और खाकी (2004) के लिए कैमरे को क्रेंक किया।

From around the web