ब्रिटनी स्पीयर्स कोअपना वकील चुनने का मिला अधिकार मिल गया है, 'कंजरवेटरशिप' मामले में खास रिपोर्ट 

 
ब्रिटनी

ग्रैमी अवॉर्ड विजेता अमेरिकन सिंगर ब्रिटनी स्पीयर्स बीते दिनों अपने पिता के साथ कानूनी मामले को लेकर जबरदस्त चर्चा में रहीं। ब्रिटनी ने अपने पिता जेमी स्पीयर्स के संरक्षण से मुक्त होने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। कंजरवेटरशिप से मुक्त होने के लिए ब्रिटनी ने कई बयान दिए थे। यहां तक कि यह खबरें भी आई थीं कि ब्रिटनी यह केस हार गई हैं और उन्हें कंजरवेटरशिप से मुक्ति नहीं मिली है।इसी बीच अब इस मामले में एक और कड़ी जुड़ती नजर आ रही है। अब ब्रिटनी को इस केस में थोड़ी राहत मिल गई है। दरअसल, ब्रिटनी को अब अपना वकील खुद चुनने का अधिकार मिल गया है। लॉस एंजिल्स के एक जज ने कहा है कि कंजरवेटरशिप को खत्म करने की लड़ाई में ब्रिटनी अब अपना वकील खुद चुन सकती हैं। कोर्ट का यह फैसला बुधवार, 14 जुलाई को आया जब ब्रिटनी ने एक महीने से भी कम समय में दूसरी बार कोर्ट में बयान दिया। ब्रिटनी ने एक बार फिर मांग की कि उनके पिता, जेम्स स्पीयर्स को गार्डियनशिप से हटाया जाए।

ब्रिटनी

 मेरी आजादी वापस चाहिए। 13 साल हो चुके हैं, अब बहुत हुआ।' ब्रिटनी मानसिक रूप से ठीक नहीं हैं। इस वजह से उनके पिता 2008 से कानूनी तौर पर उनकी देखरेख कर रहे हैं। ब्रिटनी के पिता जेमी स्पीयर्स के पास कानूनी अधिकार है, जिसके चलते वो अपनी बेटी के जीवन से जुड़ा हर फैसला ले सकते हैं। इसमें उनकी पर्सनल लाइफ और पैसों से जुड़े मामले भी शामिल हैं।कंजरवेटरशिप, अमेरिका में संरक्षकता की एक कानूनी अवधारणा है, जहां कोर्ट के द्वारा प्रतिनिधियों का चुनाव होता है, उस शख्स के लिए जो मानसिक या शारीरिक रूप से खुद की देखभाल करने में असमर्थ हैं। यह आमतौर पर बुजुर्ग लोगों के लिए किया जाता है या फिर मानसिक स्वास्थ्य से पीड़ित लोगों के लिए जो सिजोफ्रेनिया जैसी बीमारी से जूझ रहे हों। ऐसे में ब्रिटनी के मामले में उनकी वित्तीय संपत्ति से लेकर अन्य कोई भी फैसला सिंगर के पिता जेमी स्पीयर्स और एक वकील करते हैं।

From around the web