जय भानुशाली इंडियन आइडल सीजन 12 के सेट पर रेखा के लिए करते दिखे सत्संग

 
यह आने वाला सप्ताहांत सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविज़न के सबसे प्रसिद्ध शो इंडियन आइडल के दर्शकों के लिए सबसे शानदार रात होगा क्योंकि इसमें रेखा को न केवल उनकी सुंदरता और अनुग्रह के लिए बल्कि उनके अभिनय कौशल के लिए भी देखा जाएगा! मेजबान जय भानुशाली, मुख्य अतिथि के रूप में न्यायाधीश और युवा प्रतिभाशाली गायिका भारतीय फिल्म उद्योग लाइन की सबसे बड़ी दिवा के लिए उत्साहित हैं और यह सुनिश्चित करती हैं कि हर कोई उनके आकर्षण और करिश्मा से मनोरंजन करे।


अंजलि गायकवाड़ ने रेखा को श्रद्धांजलि के रूप में पिया बावरी और ये क्या कहना है गाने पर प्रदर्शन का नेतृत्व किया, जिसे सेट पर मौजूद सभी लोगों ने काफी सराहा। मनोरंजक प्रदर्शन को देखते हुए, रेखा ने कहा, “अंजलि, आप एक भावनात्मक गायिका हैं। मैं आपकी आवाज सुनकर धन्य महसूस करता हूं, यह अविश्वसनीय है। " वह कहती है," मुख्य रूप से महाराष्ट्र की बेटी के रूप में जानी जाती है, "और बाद में जानी मानी होस्ट जय भानुसाली लाइन की विशेषता टाइमिंग का अनुरोध करती हैं, वह मिलननृत्य गीतों को साफ करना चाहता है हैं, जिसके लिए प्रसिद्ध अभिनेत्री ने सहमति व्यक्त की। और उसी पर एक शानदार प्रदर्शन दिया जिसने बाद में मेजबान और प्रतियोगियों से अनन्त धनुष प्राप्त किया।आपको पता हो तो

भारतीय फिल्मों की मशहूर अदाकारा हैं जो कि मुख्यतः हिन्दी फिल्मों में दिखाई देती हैं। अपनी वर्सटैलिटी और हिन्दी फिल्मों की बेहतरीन अभिनेत्री मानी जाने वाली रेखा ने अपने करियर की शुरूआत 1966 में बाल कलाकार के तौर पर तेलगु फिल्म रंगुला रतलाम सेे की थी। मुख्य अभिनेत्री के तौर पर उनका डेब्यू चार साल बाद फिल्म सावन भादो से हुआ था। वे अपने लुक्स को लेकर हमेशा चर्चा में रहीं और 1970 तक आते आते वे अभिनेत्री के रूप में स्थापित हो गईं।


रेखा ने अपने 40 सालों के लंबे करियर में लगभग 180 से उपर फिल्मों में काम किया है। अपने करियर के दौरान उन्होंने कई दमदार रोल किए और कई मजबूत फीमेल किरदार को पर्दे पर बेहतरीन तरीके से पेश किया और मुख्यधारा के सिनेमा के अलावा उन्होंने कई आर्ट फिल्मों मे भी काम किया जिसे भारत में पैरलल सिनेमा कहा जाता हैै। उन्हें तीन बार फिल्मफेयर पुरस्कार मिल चुका है, दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का और एक बार सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेत्री का जिसमें क्रमशः खूबसूरत, खून भरी मांग और खिलाडि़यों का खिलाड़ी जैसी फिल्में शामिल हैं। उमराव जान के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिल चुका है। उनके करियर का ग्राफ कई बार नीचे भी गिरा लेकिन के उन्होंने अपने को कई बार इससे उबारा और स्टेटस को बरकरार रखने के लिए उनकी क्षमता ने सभी का दिल जीता। 2010 में उन्हें भारत सरकार की ओर से पद्मश्री सम्मान से भी नवाजा गया।

From around the web